Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2022 · 1 min read

✍️मेरी जान मुंबई है✍️

✍️मेरी जान मुंबई है✍️
……………………………………………………………//
कई अंजान खतरो से रोज गुजरता है ये शहर
नये हौसलो के साथ फिर जागता है ये शहर

इसकी हर सुबह ज़मी पे मुस्कान बिखेरती है
ग़मो की शामें लेकर सागर में डुबता है ये शहर

यहाँ भीड़ का शोर है अपने वजूद के तलाश में
पर रोज तन्हा ख़ामोशी में सुलगता है ये शहर

ऊँची इमारतों से ऊँचे अरमान है यहाँ इँसा के
बस्तियों की ख्वाइशों में भी बसता है ये शहर

‘अशांत’यहाँ सर उठाके के जीने का है रिवाज़
और झुके हुए गुरुर को भी नवाज़ता है ये शहर

यहाँ खुद का रुख जो बदले वो शाहरुख़ होता है
मेरी जान मुंबई है,जिंदादिली में जीता है ये शहर
…………………………………………………………………//
✍️”अशांत”शेखर✍️
21/07/2022
*शाहरुख-राजा

46 Views
You may also like:
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
आदर्श पिता
Sahil
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Kanchan Khanna
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
दहेज़
आकाश महेशपुरी
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
रफ्तार
Anamika Singh
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
Loading...