Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

✍️पत्थर-दिल✍️

✍️पत्थर-दिल✍️
…………………………………………//
दिल गर तेरा पत्थर होता
तो कैसे अच्छा होता?
घर की बुनियाद में दबा होता
या मंदिर में खुदा होता..
…………………………………………//
✍️”अशांत”शेखर✍️
27/06/2022

3 Likes · 4 Comments · 146 Views
You may also like:
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
Green Trees
Buddha Prakash
बाबू जी
Anoop Sonsi
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
मेरी लेखनी
Anamika Singh
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...