Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2022 · 1 min read

✍️गलतफहमियां ✍️

डोर कितनी भी मजबूत क्यों ना हो,
उसे कमजोर कर देती है ये गलतफहमियां,

रिश्ते खून के ही क्यों ना हो,
उसमे दरार ला देती है ये गलतफहमियां,

कोई कितना भी दिल के करीब क्यों ना हो,
उन्हे दिल से दूर कर देती है ये गलतफहमियां,

बंधन सात जनमों का ही क्यों ना हो,
उसे चंद लम्हों में बिखेर देती हैं ये गलतफहमियां,

संभाल कर रखो अपने नायाब रिश्तों को,
कहीं तुम्हे अकेला ना कर दे ये गलतफहमियां।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

Language: Hindi
Tag: ग़ज़ल
10 Likes · 12 Comments · 95 Views
You may also like:
बारिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मैं समंदर के उस पार था
Dalveer Singh
किसी को क्या खबर है
shabina. Naaz
बुढ़ापा
Alok Vaid Azad
👌🥀🌺आप में कोई जादू तो है🌺🥀👌
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
अध्यापक क्या है!
Harsh Richhariya
बनाए कुछ उसूल हैं।
Taj Mohammad
भक्ति रस
लक्ष्मी सिंह
“ कोरोना ”
DESH RAJ
"पुष्प"एक आत्मकथा मेरी
Archana Shukla "Abhidha"
बेवफा अपनों के लिए/Bewfa apno ke liye
Shivraj Anand
अखबार में क्या आएगा
कवि दीपक बवेजा
✍️"हैप्पी बर्थ डे पापा"✍️
'अशांत' शेखर
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
कृष्ण के जन्मदिन का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सोशल मीडिया पर नकेल
Shekhar Chandra Mitra
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
आदर्श पिता
विजय कुमार अग्रवाल
#मैं_पथिक_हूँ_गीत_का_अरु, #गीत_ही_अंतिम_सहारा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
विश्वासघात
Seema 'Tu hai na'
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
लश्क़र देखो
Dr. Sunita Singh
खामोशी
Anamika Singh
बुरे फँसे हम(हास्य गीत)
Ravi Prakash
प्रणय-बंध
Rashmi Sanjay
Loading...