Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Aug 2022 · 1 min read

✍️कोई नहीं ✍️

ना जाने कैसा सफर है ज़िंदगी का,
मिलते हज़ारों है पर पास कोई नहीं,
बस झूठी भीड़ हैं चारों तरफ़,
कितना अजीब है ना,
चलता कारवाँ है पर साथ कोई नहीं।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 10 Comments · 120 Views
You may also like:
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
बरसात और बाढ़
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
प्रकाश
Saraswati Bajpai
सबतै बढिया खेलणा
विनोद सिल्ला
मुस्कुराहट
SZUBAIR KHAN KHAN
ख्वाबों को हकीकत में बदल दिया
कवि दीपक बवेजा
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
योग्य शिक्षक वही
Dr fauzia Naseem shad
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
स्कूल का पहला दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भाभी जी आ जाएगा
Ashwani Kumar Jaiswal
कोशिश
Shyam Sundar Subramanian
नन्हा और अतीत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ख़तरे की घंटी
Shekhar Chandra Mitra
फरिश्ता से
Dr.sima
उसकी बातें
Sandeep Albela
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
✍️वो "डर" है।✍️
'अशांत' शेखर
पैसों का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
गर्दभ जी (बाल कविता)
Ravi Prakash
मैं तुमसे प्रेम करती हूँ
Kavita Chouhan
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोस्त
लक्ष्मी सिंह
नरक चतुर्दशी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मिटाने लगें हैं लोग
Mahendra Narayan
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
अगर तू नही है जीवन में ये अधखिला रह जाएगा
Ram Krishan Rastogi
Loading...