Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Sep 2022 · 1 min read

✍️कोई तो वजह दो ✍️

कोई बात दिल में चुभी हो तो बता दो,
कोई गुनाह हुआ हो मुझसे तो उसकी सज़ा दो,
युँ ही बिन बोले चुपचाप क्यों मुँह मोड़ लिया,
इस नादान दिल को ठुकराने की कोई तो वजह दो।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

8 Likes · 10 Comments · 91 Views
You may also like:
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
✍️बूढ़ा शज़र लगता है✍️
'अशांत' शेखर
Inspiration - a poem
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बदल गया मेरा मासूम दिल
Anamika Singh
“ हृदयक गप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
Human Brain
Buddha Prakash
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
लड़ते रहो
Vivek Pandey
Book of the day- कुछ ख़त मोहब्बत के (गीत ग़ज़ल...
Sahityapedia
हमसफ़र
N.ksahu0007@writer
अगर तुम प्यार करते हो तो हिम्मत क्यों नहीं करते।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पैसा
Kanchan Khanna
🌺✍️मेरे क़रार की अहमियत समझो✍️🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" राज संग दीपावली "
Dr Meenu Poonia
भारत की स्वतंत्रता का इतिहास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नव दीपोत्सव कामना
Shyam Sundar Subramanian
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
*परम चैतन्य*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
हे चौथ माता है विनय यही, अटल प्रेम विश्वास रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो बचपन की बातें
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
दिल पे क्या क्या गुज़री ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मृगतृष्णा
मनोज कर्ण
आओ प्यार कर लें
Shekhar Chandra Mitra
ज़िंदगी ख़्वाब तो नहीं होती
Dr fauzia Naseem shad
कर्मठता के पर्याय : श्री शिव हरि गर्ग
Ravi Prakash
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
आरंभ
Saraswati Bajpai
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
Loading...