Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author

✍️किताबें और इंसान✍️

✍️किताबें और इंसान✍️
………………………………………………………//
दुनिया जानने की सूझबूझ
परखने की जिज्ञासु समझ
उसी दिन से अंदर ही अंदर
विकसित होने लगी थी…
जिस दिन शिक्षा की
पाठशाला में किताबो के पन्ने
आपने पलटने शुरू किये थे…

सारी वर्णमालाये आपको
व्यवहारिक मूल्यों का सरल ज्ञान
जीवन के तथ्यों का तरल विज्ञान
समझा रही थी…
शब्द शालाये थी…
वाक्य विद्यालये थी…
पाठ्य महाविद्यालये थी…
एक किताब पूरी विश्वविद्यालय थी…

किताबे ज्ञान का अथांग महासागर थी
हर व्यक्तिमत्त्व का वैश्विक आकार थी
जीवन कसोटी का मजबूत आधार थी
उज्वल भविष्य के सपनो का साकार थी

किताब में मिले कुछ रोचक सत्य
पृथ्वी के ग्रुत्वाकर्षण के अलावा
इंसान के गिरने की वस्तुस्थितियां..
जड़त्व के वैज्ञानिक नियम और..
इंसान के दुर्गति की अवस्था में
कैसे होता है आमुलाग्र परिवर्तन…

किताबे आदमी नही बन सकती
पर किताबो ने इंसान बनाये है…
और इंसान किताबे बन सकते है..
किताबो ने इँसा के दर्द,गम,खुशियां,हँसिया,
रिश्ते,नाते,अपने,पराये,दोस्त,दुश्मन
सबको गले लगाया…
सारी वेदना,भावना,संवेदना,हारना,जितना,
गिरना,उठना सभी को
अपने अंदर बसाया…

किताब इंसान के संपूर्ण संघर्ष की जीवनगाथा…
किताब इंसान के संपूर्ण विकास की सत्यकथा…

कल अचानक बंद अलमारी में यूँही पड़ी हुई
धूल खाती किताबो ने आत्महत्या कर ली
और इल्ज़ाम भी आया खुद किताबो के सर …
साबित ये हुँवा के विज्ञान पढ़ाया खुदगर्ज़ इंसानो को
अब सजा-ए-जुर्म में उम्र से भी लंबी सारी किताबे क़ैद है
विज्ञान के एक खिलौने के अंदर…!
विज्ञान के एक खिलौने के अंदर…!
…………………………………………………………………//
©✍️”अशांत”शेखर✍️
29/07/2022

2 Likes · 6 Comments · 42 Views
You may also like:
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
जब भी
Dr fauzia Naseem shad
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
गला रेत इंसान का,मार ठहाके हंसता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️मैं अपने अंदर हूं✍️
"अशांत" शेखर
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
ईद हो जायेगी।
Taj Mohammad
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️हम बगावत हो जायेंगे✍️
"अशांत" शेखर
*हर घर तिरंगा (गीतिका)*
Ravi Prakash
इश्क ए बंदगी में।
Taj Mohammad
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मै तैयार हूँ
Anamika Singh
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
इश्क़ नहीं हम
Varun Singh Gautam
हमनें नज़रें अदब से झुका ली।
Taj Mohammad
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम
श्रीहर्ष आचार्य
अगनित उरग..
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मंदिर
जगदीश लववंशी
मिसाइल मैन
Anamika Singh
आँखों में पूरा समंदर छिपाये बैठे है,
डी. के. निवातिया
Loading...