Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

✍️कांटने लगते है घर✍️

✍️कांटने लगते है घर✍️
…………………………………………………………//
जब जिगर के टुकड़े के निकल आते है पर
दूर जाते बच्चो के बिन कांटने लगते है घर
…………………………………………………………//
©✍️’अशांत’शेखर✍️
06/08/2022

2 Likes · 4 Comments · 58 Views
You may also like:
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
यादें
kausikigupta315
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
संत की महिमा
Buddha Prakash
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
आस
लक्ष्मी सिंह
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
बाबू जी
Anoop Sonsi
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
Loading...