Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Aug 2022 · 1 min read

✍️कलम ही काफी है ✍️

कुछ सुधर चुके, कुछ को सुधारना बाकी है,
हम हथियार से वार नही करते,
हमारे दुश्मनो के लिए हमारी कलम ही काफी है।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 10 Comments · 114 Views
You may also like:
पिता
Mamta Rani
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
प्यारी चिड़ियाँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
मोटर गाड़ी खिलौना
Buddha Prakash
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
हैं सितारे खूब, सूरज दूसरा उगता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
गांठे खोलने वाला शिक्षक-सुकरात
Shekhar Chandra Mitra
शेर
dks.lhp
वो ही शहर
shabina. Naaz
✍️सूफ़ियाना जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
*सफलता और असफलता सदा किस्मत से आती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
बाहों में तेरे
Ashish Kumar
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
साथ तुम्हारा
मोहन
अगर नशा सिर्फ शराब में
Nitu Sah
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अधूरी चाहत
Faza Saaz
रानू रानाघाट की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अगर तुम सावन हो
bhandari lokesh
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
एकाकीपन
Rekha Drolia
पाब्लो नेरुदा
Pakhi Jain
🍀🌺परमात्मन: अंश: भवति तु स्वरूपे दोषः न🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आओ हम सब घर घर तिरंगा फहराए
Ram Krishan Rastogi
मंजिल की धुन
Seema 'Tu hai na'
पत्र का पत्रनामा
Manu Vashistha
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
Loading...