Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2022 · 1 min read

✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️

✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
…………………………………………………//
धर्म और मज़हब से पहले
इंसान के पास अपना क्या था?
ये धरती थी खुला आसमान था
इंसान सिर्फ यहाँ एक मेहमान था।

धर्म और मज़हब से पहले
इंसान के पास अपना क्या था?
ये चाँदतारे थे सूरज की रोशनी थी
इंसान की शुरू हो रही कहानी थी।

धर्म और मज़हब से पहले
इंसान के पास अपना क्या था?
मिट्टी,पत्थर थे ऊँचे ऊँचे पहाड़ थे
इंसान के प्राण बचाने तब ये पेड़ थे।

धर्म और मज़हब से पहले
इंसान के पास अपना क्या था?
झरने नदियां थी विस्तृत सागर था।
इंसान का पानी पर गुजर बसर था।

धर्म और मज़हब से पहले
इंसान के पास अपना क्या था?
वो आदम था,नस्ल हिपाजत करता था।
इंसान पंचतत्वों को ही निर्मिक पूजता था।

धर्म और मज़हब से पहले
इंसान के पास अपना क्या था?
पत्थर की सोच,पत्थर के औजार थे
इंसान खुद जिवित रहे यही रोजगार थे ।

धर्म और मज़हब से पहले
इंसान के पास अपना क्या था?
खेत खलियान थे मुट्ठीभर दाना था
इंसान को उसके हिस्से का खाना था।

धर्म और मज़हब से पहले
इंसान के पास अपना क्या था?
ना भय ,ना लालच ना खोने का डर था।
इंसान निश्चल निर्भय तृष्णामुक्त नर था।

लेकिन…
धर्म और मज़हब के बाद
इंसान के पास अपना सब कुछ था
जल,जमीं,जंगल और एक रणभूमि…!
फिर भी उसका अपना कुछ नहीं था
क्योंकि…
इंसान के पास धर्म के हथियार थे
और मज़हबी जंग थी….!
………………………………………………………//
✍️”अशांत”शेखर✍️
19/06/2022

2 Likes · 4 Comments · 96 Views
You may also like:
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
पल
sangeeta beniwal
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पिता का दर्द
Nitu Sah
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
Loading...