Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2022 · 1 min read

✍️आत्मपरीक्षण✍️

✍️आत्मपरीक्षण✍️
………………………………………………………//
भलाईयां पूछती है हाथों से
अब तक कितनी किये हो.?

बुराइयां पूछती है कदमो से
क्या चलना छोड़ दिये हो.?
………………………………………………………//
✍️”अशांत”शेखर✍️
01/07/2022

1 Like · 2 Comments · 100 Views
You may also like:
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
# पिता ...
Chinta netam " मन "
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*"पिता"*
Shashi kala vyas
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
सुन्दर घर
Buddha Prakash
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कशमकश
Anamika Singh
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...