Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

✍️आईने लापता मिले✍️

✍️आईने लापता मिले✍️
…………………………………………………//
एक बेदाग इँसा ढूँढने निकला था मैं
शहर के सारे आईने मुझे लापता मिले
…………………………………………………//
©✍️’अशांत’शेखर✍️
13/08/2022

3 Likes · 9 Comments · 76 Views
You may also like:
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Kanchan Khanna
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...