Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

⚘️🌾गीता के प्रति मेरी समझ🌱🌷

गीता मैं श्री कृष्णा ने कर्म का जो महामंत्र दिया है वह मानव समाज के लिए वरदान है इस पर मनन कर मनुष्य सांसारिक सुख से ऊपर उठकर कर्म करने की प्रेरणा प्राप्त करता है जो जीवन का वास्तविक सुख है गीता वास्तव में भारतीय चिंतन और धर्म का निचोड़ है और इसमें सारे संसार तथा समस्त मानव जाति को एक सूत्र में बांधने की पूर्ण क्षमता है…………..
मनुष्य को फल की चिंता किए बिना अपने कर्तव्य का पालन करना चाहिए सफलता और असफलता के प्रति समान भाव रखकर कार्य करना ही श्रेष्ठ कार्य है यही कर्मयोग है कृष्ण के उपदेश गीता के अमृत वचन है…..
Ankit Halke jha
M.sc. botany🌺🌾

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
Bodhisatva kastooriya
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
जीवन बूटी कौन सी
जीवन बूटी कौन सी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज समझी है ज़िंदगी हमने
आज समझी है ज़िंदगी हमने
Dr fauzia Naseem shad
कोरा रंग
कोरा रंग
Manisha Manjari
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Seema Varma
जीवन दुखों से भरा है जीवन के सभी पक्षों में दुख के बीज सम्मि
जीवन दुखों से भरा है जीवन के सभी पक्षों में दुख के बीज सम्मि
Ms.Ankit Halke jha
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
गीत नए गाने होंगे
गीत नए गाने होंगे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*केवट (कुंडलिया)*
*केवट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-171💐
💐प्रेम कौतुक-171💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नजरिया-ए-नील पदम्
नजरिया-ए-नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
dks.lhp
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
gurudeenverma198
सूखा पत्ता
सूखा पत्ता
Dr Nisha nandini Bhartiya
बदतमीज
बदतमीज
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सफलता और सुख  का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
सफलता और सुख का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
Leena Anand
बाल-कविता: 'मम्मी-पापा'
बाल-कविता: 'मम्मी-पापा'
आर.एस. 'प्रीतम'
अंतिम एहसास
अंतिम एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"आया रे बुढ़ापा"
Dr Meenu Poonia
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
2299.पूर्णिका
2299.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बात है तो क्या बात है,
बात है तो क्या बात है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
स्त्री रहने दो
स्त्री रहने दो
Arti Bhadauria
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
Vijay kannauje
जो होता है सही  होता  है
जो होता है सही होता है
Anil Mishra Prahari
तूफां से लड़ता वही
तूफां से लड़ता वही
Satish Srijan
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Shekhar Chandra Mitra
Loading...