Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2021 · 2 min read

●■ मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा ■●

किसी और पे उम्मीद न जगाऊँगा
न दुनिया से कोई आस लगाऊंगा।
मैं उस दिन कहूँगा अपनी मदद करने को
जिस दिन मैं भी किसी को सहारा लगाऊंगा।
दुनिया को तब कहूँगा बदलने को,
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

नही टोकूँगा किसी को बुरा करने से
नही किसी पे रोक लगाऊंगा।
मैं तब लोगों को समझाऊंगा दीन दया
जब मैं ख़ुद इसे पूर्ण समझ जाऊँगा।
मैं दुनिया को तब कहूँगा बदलने को,
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

अच्छे बुरे कर्मों पर लोगों के मै
तबतक कोई चिंता न जताऊंगा।
जबतक पाप के गड्ढों से मैं
ख़ुद बाहर न निकल आऊँगा।
मैं दुनिया को तब कहूँगा बदलने को
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

नही झाकूँगा गिरेवान किसी की
नही किसी पर इल्ज़ाम लगाऊंगा।
मैं दुनिया को तब कहूँगा अच्छा बनने को
जब मैं ख़ुद अच्छा बन जाऊँगा।
मैं दुनिया को तब कहूँगा बदलने को
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

अभी ग़लत क्या सही है दुनिया
मैं ये तबतक न बतलाऊँगा।
होगा उस रोज़ मुझे ये हक़ पूरा,जब
मैं ख़ुद सही चलने लग जाऊँगा।
मैं दुनिया को तब कहूँगा बदलने को
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

जब ख़ुद भरे बैठा हूँ मैं मैलापन
दूसरों का दामन क्या साफ कराऊंगा।
उस दिन बेशक़ बोलूँगा सबको
जिस दिन में ख़ुद स्वच्छ हो जाऊँगा।
मैं दुनिया को तब कहूँगा बदलने को,
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

कैसे कह दूं लोगों को फ़ितरत बदलने को
कैसे कह दूँ सच के पथ पे चलने को।
जबतक ईमानदारी, सच्चाई,भाईचारा
और प्रेम मैं ख़ुद ही न अपनाऊंगा।
मैं दुनिया को तब कहूँगा बदलने को,
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

कैसे कह दूँ ग़ैरों को एक औरत
के ऊपर से गन्दी नजर हटाने को।
जबतक मैं ख़ुद अपने अंदर की
गन्दी नीयत को पूर्णताः न हटाऊंगा।
मैं दुनिया को तब कहूँगा बदलने को,
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

दानव, दैत्य,और राछस,किसी को
तबतक कहना उचित नही।
जब तक मैं ख़ुद में एक अच्छे मानव की
मानवीय प्रवर्ति न लाऊँगा।
मैं दुनिया को तब कहूँगा बदलने को
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

सच कहूँ तो औरों के कर्मों का मुझे ज्ञान नही
पर अपने अच्छे कर्मों,अच्छे भावों,और अच्छे विचारों
और व्यहवहारों के बल पर मैं,
इस धरती पर फिर से सतयुग लेकर आऊँगा
मैं दुनिया को तब कहूँगा बदलने को,
जब मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा।

कवि-वि.के.विराज़
कविता-मैं ख़ुद में बदलाव लाऊँगा
तिथि-02/06/2021

1 Like · 4 Comments · 155 Views
You may also like:
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
होता नहीं अब मुझसे
gurudeenverma198
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
मैं तुम्हारे स्वरूप की बात करता हूँ
gurudeenverma198
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
नज़्म – "तेरी आँखें"
nadeemkhan24762
जिन्दगी का क्या भरोसा
Swami Ganganiya
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
करते रहे वफ़ा।
Taj Mohammad
जब उमीदों की स्याही कलम के साथ चलती है।
Manisha Manjari
भारत की जमीं
DESH RAJ
हृद् कामना ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
फूल कोई।
Taj Mohammad
“ जन्माष्टमी की एक झलक आर्मी में ” (संस्मरण)
DrLakshman Jha Parimal
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
'अशांत' शेखर
कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
ईद के बहाने ही सही।
Taj Mohammad
नहीं छिपती
shabina. Naaz
पुस्तक -कैवल्य की परिचयात्मक समीक्षा
Rashmi Sanjay
तुमको खुशी मिलती है।
Taj Mohammad
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
अर्थ व्यवस्था मनि मेनेजमेन्ट
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो कहते हैं ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
एक आशिक की संवेदना
Aditya Prakash
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...