Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

■ आज का शेर

■ हिचकी एक भरम….
“हिचकी” एक स्वाभाविक सी दैहिक क्रिया। जिसे विज्ञान अपनी दृष्टि से देखता है और इंसान अपने नज़रिए से। लोक-मान्यताओं के अनुसार हिचकी किसी के याद करने की वजह से आती है और उसी का नाम लेने से रुक जाती है। प्रेमी-जन अपने भरम को बनाए रखने के लिए न नाम लेना चाहते हैं, न हिचकी रोकना। यह भी शायद एक आस ही है, जिसके पीछे विश्वास है। मगर दमदार नहीं, बेहद कमजोर सा।।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुद को खामोश करके
खुद को खामोश करके
Dr fauzia Naseem shad
मन मन्मथ
मन मन्मथ
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
"रिपब्लिक भारत" चैनल
*Author प्रणय प्रभात*
*झूल रहा है टॉमी झूला( बाल कविता )*
*झूल रहा है टॉमी झूला( बाल कविता )*
Ravi Prakash
हुईं वो ग़ैर
हुईं वो ग़ैर
Shekhar Chandra Mitra
वेदनापूर्ण लय है
वेदनापूर्ण लय है
Varun Singh Gautam
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
Dr Archana Gupta
Sometimes he looks me
Sometimes he looks me
Sakshi Tripathi
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
तू तो नहीं
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परछाई
परछाई
Dr Parveen Thakur
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
Author Dr. Neeru Mohan
अजी मोहब्बत है।
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
कुशादा
कुशादा
Mamta Rani
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
Paras Nath Jha
2379.पूर्णिका
2379.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उजालों के घर
उजालों के घर
सूर्यकांत द्विवेदी
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
प्रेमचंद के उपन्यासों में दलित विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कह दूँ बात तो मुश्किल
कह दूँ बात तो मुश्किल
Dr. Sunita Singh
स्लोगन
स्लोगन
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
दोहे शहीदों के लिए
दोहे शहीदों के लिए
दुष्यन्त 'बाबा'
✍️जिंदगी की सुबह✍️
✍️जिंदगी की सुबह✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
आत्मा को ही सुनूँगा
आत्मा को ही सुनूँगा
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
कोरोना का संहार
कोरोना का संहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...