Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 1 min read

■ आज का शेर

यहां भी होशियारी। मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।

Language: Hindi
1 Like · 33 Views
You may also like:
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
💐अज्ञात के प्रति-120💐
💐अज्ञात के प्रति-120💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम का दीप जलाया जाए
प्रेम का दीप जलाया जाए
अनूप अम्बर
भगतसिंह से सवाल
भगतसिंह से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
विद्या राजपूत से डॉ. फ़ीरोज़ अहमद की बातचीत
विद्या राजपूत से डॉ. फ़ीरोज़ अहमद की बातचीत
डॉ. एम. फ़ीरोज़ ख़ान
*पेड़  (हिंदी गजल/गीतिका)*
*पेड़ (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
दुख से बचने का एक ही उपाय है
दुख से बचने का एक ही उपाय है
ruby kumari
धरती माँ
धरती माँ
जगदीश शर्मा सहज
जीवन रंगों से रंगा रहे
जीवन रंगों से रंगा रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य सनातन पंथ चलें सब, आशाओं के दीप जलें।
सत्य सनातन पंथ चलें सब, आशाओं के दीप जलें।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नशा - 1
नशा - 1
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हे सड़क तुम्हें प्रणाम
हे सड़क तुम्हें प्रणाम
मानक लाल"मनु"
रुद्रा
रुद्रा
Utkarsh Dubey “Kokil”
नकारात्मक मानसिकता
नकारात्मक मानसिकता
Dr fauzia Naseem shad
हमारी मूर्खता ही हमे ज्ञान की ओर अग्रसर करती है।
हमारी मूर्खता ही हमे ज्ञान की ओर अग्रसर करती है।
शक्ति राव मणि
तुम्हारी शोख़ अदाएं
तुम्हारी शोख़ अदाएं
VINOD KUMAR CHAUHAN
उठ मुसाफिर
उठ मुसाफिर
Seema 'Tu hai na'
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग...
Rj Anand Prajapati
अन्नदाता किसान कैसे हो
अन्नदाता किसान कैसे हो
नूरफातिमा खातून नूरी
महर्षि बाल्मीकि
महर्षि बाल्मीकि
Ashutosh Singh
तुम भी बढ़ो हम भी बड़े
तुम भी बढ़ो हम भी बड़े
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Fuzail Sardhanvi
✍️गहरी बात✍️
✍️गहरी बात✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loneliness in holi
Loneliness in holi
Ankita Patel
चुपके से चले गये तुम
चुपके से चले गये तुम
Surinder blackpen
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरी सिरजनहार
मेरी सिरजनहार
कुमार अविनाश केसर
51-   सुहाना
51- सुहाना
Rambali Mishra
Loading...