Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

தனிமை

தனிமை கூட பேசுகிறது
மறைக்கப்பட்ட உணர்வுகளை வெளிப்படுத்துகிறது,
மனதின் மேகங்களைத் துடைத்து யதார்த்தத்தின் நிலத்திற்குக் கொண்டுவருகிறது
உண்மைக்கும் பொய்க்கும் உள்ள வேறுபாட்டைக் கற்பிக்கிறது
திறந்த கண்ணின் இருளில் இருந்து,
புதிய வெளிச்சத்திற்கு வழிவகுக்கிறது

Language: Tamil
204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
चुप ही रहेंगे...?
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
तुम्हें आती नहीं क्या याद की  हिचकी..!
तुम्हें आती नहीं क्या याद की हिचकी..!
Ranjana Verma
निश्चल छंद और विधाएँ
निश्चल छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
//एहसास//
//एहसास//
AVINASH (Avi...) MEHRA
मां क्यों निष्ठुर?
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
गुज़र रही है जिंदगी...!!
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
✍️झूठा सच✍️
✍️झूठा सच✍️
'अशांत' शेखर
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
*क्रय करिएगा पुस्तकें (कुंडलिया)*
*क्रय करिएगा पुस्तकें (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उनकी यादें
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
Vandna thakur
याद
याद
Kanchan Khanna
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
हंस है सच्चा मोती
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"साड़ी"
Dr. Kishan tandon kranti
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
मुझसा प्यार नहीं मिलेगा
मुझसा प्यार नहीं मिलेगा
gurudeenverma198
रंग आख़िर किसलिए
रंग आख़िर किसलिए
*Author प्रणय प्रभात*
जागो।
जागो।
Anil Mishra Prahari
💐प्रेम की राह पर-34💐
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
Taj Mohammad
बुनते हैं जो रात-दिन
बुनते हैं जो रात-दिन
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अंदाज मस्ताना
अंदाज मस्ताना
VINOD KUMAR CHAUHAN
पर्व यूं ही खुशी के
पर्व यूं ही खुशी के
Dr fauzia Naseem shad
मानसिकता का प्रभाव
मानसिकता का प्रभाव
Anil chobisa
2322.पूर्णिका
2322.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...