Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Sep 2016 · 1 min read

ज़िन्दगी

ज़िन्दगी बेवजह हो तो इल्जाम होती है,
ज़िन्दगी बावजह हो तो इनाम होती है,
जो बना रहे हैं ज़िन्दगी दोजख अवधूत,
वो ज़िन्दगी बिलावजह बदनाम होती है।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
207 Views
You may also like:
कल की फिक्र को छोड़ कर
Dr fauzia Naseem shad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
आँखे
Anamika Singh
देर
पीयूष धामी
मन सीख न पाया
Saraswati Bajpai
जिन्दगी को ख़राब कर रहे हैं।
Taj Mohammad
जब हवाएँ तेरे शहर से होकर आती हैं।
Manisha Manjari
आईने के पास जाना है
Vinit kumar
“मैं बहुत कुछ कहना चाहता हूँ”
DrLakshman Jha Parimal
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
"मां बाप"
Dr Meenu Poonia
आस्था
Shyam Sundar Subramanian
मेरे सनम
DESH RAJ
*सुप्रभात की सुगंध*
विजय कुमार 'विजय'
औरत
Rekha Drolia
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
अराजकता बंद करो ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
*ई रिक्शा पर प्रतिबंध : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
✍️रंग बदलती जिंदगी
'अशांत' शेखर
एकता
Aditya Raj
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
मित्र मिलन
जगदीश लववंशी
अंतरराष्ट्रीय छवि को धक्का
Shekhar Chandra Mitra
'कैसी घबराहट'
Godambari Negi
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पितृ देव
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लोगों के रंग
Kaur Surinder
गुरु की महिमा***
Prabhavari Jha
कैसे मुझे गवारा हो
Seema 'Tu hai na'
Loading...