Sep 1, 2016 · 1 min read

ज़िन्दगी

ज़िन्दगी बेवजह हो तो इल्जाम होती है,
ज़िन्दगी बावजह हो तो इनाम होती है,
जो बना रहे हैं ज़िन्दगी दोजख अवधूत,
वो ज़िन्दगी बिलावजह बदनाम होती है।

142 Views
You may also like:
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
मुक्तक
Ranjeet Kumar
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आपातकाल
Shriyansh Gupta
# मां ...
Chinta netam मन
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
बेबसी
Varsha Chaurasiya
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
वार्तालाप….
Piyush Goel
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
ढह गया …
Rekha Drolia
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
सेक्लुरिजम का पाठ
Anamika Singh
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
हर रोज योग करो
Krishan Singh
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
एक संकल्प
Aditya Prakash
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...