Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

ज़िन्दगी को मनाओ खुशी की तरह— गज़ल

ज़िन्दगी को मनाओ खुशी की तरह
झेलो’ गम को जरा दिल्लगी की तरह

कुछ इनायते’ मिली कुछ जलालत सही
वक्त आया गया रोशनी की तरह

रोज चलता रहा बोझ ढोता रहा
और तपता रहा दुपहरी की तरह

उसके’ दिल मे तो’ विष ही भरा होता’ है
बात होती मगर चाश्नी की तरह

ज़िन्दगी गांव मे औरतों की भी क्या
मर्द पीटे उसे ओखली की तरह

वादा अच्छे दिनों का कहाँ खो गया
लोग भूखे दुखी भुखमरी की तरह्

गांव के दूध का स्वाद भी याद है
अब न मिट्टी की’ उस काढनी की तरह

वक्त की मार सहते हुये जी लिया
रोज बजता रहा ढोलकी की तरह

जान बच्चे हैं’ मेरी वो ही ज़िन्दगी
वो सहारा मे’रा हैं छडी की तरह्

3 Comments · 399 Views
You may also like:
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
*सेना वीर स्वाभिमानी (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद)*
Ravi Prakash
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
A solution:-happiness
Aditya Prakash
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदगी, ज़िंदगी ही होती है
Dr fauzia Naseem shad
#जातिबाद_बयाना
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
लोग कहते हैं कि कवि
gurudeenverma198
तेरे बिना ये ज़िन्दगी
Shivkumar Bilagrami
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कला
Saraswati Bajpai
आदर्श पिता
Sahil
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
बहादुर फनकार
Shekhar Chandra Mitra
अप्रैल-फूल दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बदलते मौसम
Dr Archana Gupta
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
आईना और वक्त
बिमल
प्रेम एक अनुभव
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
समर
पीयूष धामी
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
" समुद्री बादल "
Dr Meenu Poonia
Loading...