Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ज़िंदगी जब तुझे नज़दीक से देखा मैंने !

ज़िंदगी जब तुझे नज़दीक से देखा मैंने !

एक धुंधली सी तस्वीर नज़र आयी मुझे,
जैसे चलते हुए मुसाफिर को,
राह में दिख रही हो परछाईं,
राज गहरा है समझना मुश्किल,
ढूंढता है की वशर शमो सहर जिस शै को,
वो ख्वाबगाह है एक ताजमहल के जैसी,
जहाँ मिलती है दर हकीकत में,
एक खोई हुई सी वीरानी,
इससे भूली हुई शमशानी हकीकत ही पाया मैंने,
ज़िन्दगी जब तुझे नज़दीक से देखा मैंने !!!

175 Views
You may also like:
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता
Dr.Priya Soni Khare
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरे पापा
Anamika Singh
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
दहेज़
आकाश महेशपुरी
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
संघर्ष
Sushil chauhan
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे पापा
Anamika Singh
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
Loading...