Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ज़िंदगी काटी जा रही

मार्च के अंतिम सप्ताह से चाय-नाश्ता छोड़ दिया, घर के सभी सदस्यों ने दिन में एकबार और रात में एकबार ही भोजन ले रहे !

पुरानी जांता-चक्की निकाली गई, उसी से दर्रे कर व पीसकर घांटा, घांटी, दलिया, खिचड़ी, बगिया, मक्के की रोटियां, सत्तू और सब्जी में सिर्फ़ आलू व सोयाबीन ही खाद्य के रूप में भोग लग रही, क्योंकि आर्थिक कड़की हावी होने लगी थी. वैसे सर्वोत्तम आहार ‘शाकाहार’ है !

चूँकि बाहर निकलना भी नहीं था, हड़ताल के कारण वेतन बंद थे, थोड़ी-बहुत जमापूँजी 26 किलोमीटर दूर एटीएम रहने के कारण रुपये निकासी संभव नहीं थी, क्योंकि सभी तरह के वाहन बंद थे !

तभी तो ज़िंदगी कट नहीं, काटी जा रही है !

2 Likes · 157 Views
You may also like:
सोचा था जिसको मैंने
Dr fauzia Naseem shad
औकात में रहिए
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता
Mamta Rani
" आपके दिल का अचार बनाना है ? "
DrLakshman Jha Parimal
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
बेसहारा हुए हैं।
Taj Mohammad
बारिश की बूंद....
"धानी" श्रद्धा
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कर्म
Anamika Singh
सुख की कामना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
ए बदरी
Dhirendra Panchal
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
महफिल अफसूर्दा है।
Taj Mohammad
✍️अधमरी सोंच✍️
'अशांत' शेखर
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अब मै भी जीने लगी हूँ
Anamika Singh
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** शरारत **
Dr.Alpa Amin
भारतीय सभ्यता की दुर्लब प्राचीन विशेषताएं ।
Mani Kumar Kachi
Loading...