Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ग़ज़ल

आदमी को यकबयक क्या सुरूर हो गया,
खुद से खुद जाने कैसे वह दूर हो गया ।
इन्सानियत में इतनी दुश्वारियां तो न थीं,
फिर छोड़ने को क्यों कर मज़बूर हो गया ।
शौकौ सोहबत में जो पी ली थी एक दिन,
फिर तो रोज-ब-रोज ये दस्तूर हो गया ।
बदनामियों में वह उलझा रहा इस तरह,
बैठे बिठाए देखिए मशहूर हो गया ।
ईमान की राह में जो नुकसान देखकर,
सच मानिए ईमान से वह दूर हो गया ।
मराहिले-मंजिल वह चढ़ता रहा इस कदर,
पाकर वकार देखिए मगरूर हो गया ।
-अशोक सोनी

186 Views
You may also like:
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
अरदास
Buddha Prakash
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इंतजार
Anamika Singh
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
यादें
kausikigupta315
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
अधुरा सपना
Anamika Singh
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...