Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 21, 2017 · 1 min read

ग़ज़ल

नंदन प्यारा था दुलारा था, सहारा न हुआ
मेरा खुद का ही जलाया दिया अपना न हुआ |

रौशनी फ़ैल गयी चारो तरफ लेकिन फिर
घर अँधेरा था अँधेरा है उजाला न हुआ |

देखते रह गए बेसुध नसे में मदिरा बिना
चाह कर भी उन्हें फ़रियाद सुनाना न हुआ |

दिल नहीं तुझको दिखा सकता जलाया तू ने
ख़ाक में मिल गया वो छार किसी का न हुआ |

निकले थे वज्म से बेआबरू होकर कभी वो
बेरुखी तेरी वजह थी कि दिवाना न हुआ |

सिर्फ मैं ही नहीं, हर एक दिवाना जो बना
दर्द तुमने दिया उसको तो भुलाना न हुआ |

याद करते थे सभी तुझको, दुलारी थी तू
दिल का अरमान हमारा कभी पूरा न हुआ |

कालीपद ‘प्रसाद’

115 Views
You may also like:
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
मेरे पापा!
Anamika Singh
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
सिपाही
Buddha Prakash
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
नारियल
Buddha Prakash
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
लगा हूँ...
Sandeep Albela
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
याद आते हैं।
Taj Mohammad
💐💐परमात्मा इन्द्रियादिभि: परेय💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रेम
Rashmi Sanjay
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
Loading...