Sep 27, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

पेट को चाहिए खाद्य, नारा नहीं
पेट जितने से भर जाय, सारा नही |

भावना की कमी, जाँचना चाहिए
भूखो को चाहिए खाना,चारा नहीं |

सारे रिश्ते बिगड़ते हैं, तकरार से
शत्रुवत और हो जाता, यारा नहीं |

बात है कर्ण प्रिय,’आयगा अच्छा दिन”
अब किसी को भी यह, लगता प्यारा नहीं |

देख कर ठण्ड वातावरण क्या कहें
पी गए मय मधुर किन्तु प्यारा नहीं |

सिन्धु जल मेघ बन फिर बरसता कहीं
वह अमृत वारि मीठा है खारा नहीं |

© कालीपद ‘प्रसाद’

134 Views
You may also like:
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
If we could be together again...
Abhineet Mittal
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
मनमीत मेरे
Dr.sima
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H.
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
Loading...