Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 7, 2016 · 1 min read

ज़मीं पर नीम जां यारी पड़ी है,

ज़मी पर नीमजाँ यारी पड़ी है।
इधर खंजर उधर आरी पड़ी है।।

मेरे ही सर प हैं इलज़ाम सारे।
बड़ी महँगी वफादारी पड़ी है।।

हज़ारो बार देखा आज़मा कर।
मुहब्बत हर दफ़ा भारी पड़ी है।।

अजब सा ख़ौफ़ फैला है वतन में।
हवा के हाथ चिंगारी पड़ी है।।

समन्दर से कोई रिश्ता है इसका।
नदी किस वास्ते खारी पड़ी है।।

नीमजां=घायल

—–//अशफ़ाक़ रशीद

114 Views
You may also like:
जीवन मेला
DESH RAJ
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H. Amin
गहरा सोचता है।
Taj Mohammad
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सच्चाई का दर्पण.....
Dr. Alpa H. Amin
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अब आगाज यहाँ
vishnushankartripathi7
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
✍️जिंदगी क्या है...✍️
"अशांत" शेखर
✍️कथासत्य✍️
"अशांत" शेखर
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
Loading...