Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 8, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

सपना भी रुचिकर हो जाता,
गर उसका दिल घर हो जाता \1\
*
सबके दुख जो खुद सहले वो,
दुनियां में ईश्वर हो जाता\2\
*
झूठी बात लगे सब अच्छी ,
सच बोले नश्तर हो जाता\3 \
*
गर वो छू लेता पांवो को ,
ऊँचा उसका सर हो जाता \4\
*
यदि वो हंस पड़ती होले से,
मेरा भी कम डर हो जाता \5\
*
नीचा कर लेता वो सर को,
या फिर ऊँचा दर हो जाता \6\
*
जो पूजे नित मात पिता को ,
मन उसका मन्दिर हो जाता \7\
**
रामकिशोर उपाध्याय

6 Comments · 222 Views
You may also like:
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
मां
हरीश सुवासिया
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
"अशांत" शेखर
✍️कधी कधी✍️
"अशांत" शेखर
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H. Amin
होली का संदेश
Anamika Singh
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
आमाल।
Taj Mohammad
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
दूध होता है लाजवाब
Buddha Prakash
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
*कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...