Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#8 Trending Author

ग़ज़ल / (हिन्दी)

एक मीठी-सी सजा है ज़िन्दगी ।
रोग भी है औ’ दवा है ज़िन्दगी ।

मौत पर ही ख़त्म हो जिसका असर,
वो मुसलसल-सा नशा है ज़िन्दगी ।

खोज़ती है सिर्फ़ ज़र, जोरू, ज़मीं,
बेवकूफ़ी पर फिदा है ज़िन्दगी ।

रंग गिरगिट-सा बदलता , देख लो
बेवफ़ा है , बा-वफ़ा है ज़िन्दगी ।

सिर्फ़ जीने की कला आती, उन्हें
फ़ायदा -दर -फ़ायदा है ज़िन्दगी ।

ख़ोजता है रोज़ वो शामो-सहर,
आदमी से लापता है ज़िन्दगी ।

नाम ‘ईश्वर’ है मेरा बस, इसलिए
जानता हूँ मैं कि क्या है ज़िन्दगी ।
०००००
— ईश्वर दयाल गोस्वामी

8 Likes · 10 Comments · 165 Views
You may also like:
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
'कभी तो'
Godambari Negi
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
✍️मैं जलजला हूँ✍️
'अशांत' शेखर
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
✍️क्या ये विकास है ?✍️
'अशांत' शेखर
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
'अशांत' शेखर
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
हम भारतीय हैं..।
Buddha Prakash
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
सूरज काका
Dr Archana Gupta
आईना और वक्त
बिमल
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
तेरी हर बात सनद है, हद है
Anis Shah
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
मानुष हूं मैं या हूं कोई दरिंदा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
*सोमनाथ मंदिर 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
मेरा साया
Anamika Singh
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
काश़ ! तुम मेरा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...