#2 Trending Author

ग़ज़ल- सागर पे है भारी देखो

ग़ज़ल- सागर पे है भारी देखो
★★★★★★★★★★★
जिससे मेरी यारी देखो
उसने की गद्दारी देखो

आँसू का ये बहता दरिया
सागर पे है भारी देखो

तेरे खातिर ऐ जानेमन
मरने की तैयारी देखो

पाँचोँ थे रखवाले जिसके
रोती थी वो नारी देखो

दुख दर्दोँ की सर्द हवाएँ
जीवन की दुश्वारी देखो

भाव भरा ‘आकाश’ कहाँ है
रिश्तोँ मेँ लाचारी देखो

– आकाश महेशपुरी

146 Views
You may also like:
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
Shailendra Aseem
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Nature's beauty
Aditya Prakash
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुम हो
Alok Saxena
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H.
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
यादें
Sidhant Sharma
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
Loading...