Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

ग़ज़ल (लाचारी )

ग़ज़ल (लाचारी )

कुछ इस तरह से हमने अपनी जिंदगी गुजारी है
जीने की तमन्ना है न मौत हमको प्यारी है

लाचारी का दामन आज हमने थाम रक्खा है
उनसे किस तरह कह दें की उनकी सूरत प्यारी है

निगाहों में बसी सूरत फिर उनको क्यों तलाशे है
ना जाने ऐसा क्यों होता और कैसी बेकरारी है

बादल बेरुखी के दिखने पर भी क्यों मुहब्बत में
हमको ऐसा क्यों लगता की उनसे अपनी यारी है

परायी लगती दुनिया में गम अपने ही लगते हैं
आई अब मुहब्बत में सजा पाने की बारी है

ये सांसे ,जिंदगी और दिल सब कुछ तो पराया है
ब्याकुल अब मदन ये है की होती क्यों उधारी है

ग़ज़ल (लाचारी )
मदन मोहन सक्सेना

188 Views
You may also like:
हम सब एक है।
Anamika Singh
Security Guard
Buddha Prakash
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा
सेजल गोस्वामी
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
बंदर भैया
Buddha Prakash
समय ।
Kanchan sarda Malu
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
अनमोल राजू
Anamika Singh
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
आदर्श पिता
Sahil
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
पल
sangeeta beniwal
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
पिता
Buddha Prakash
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
Loading...