Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (ये कैसा तंत्र)

ग़ज़ल (ये कैसा तंत्र)

कैसी सोच अपनी है किधर हम जा रहें यारों
गर कोई देखना चाहें बतन मेरे वह आ जाये

तिजोरी में भरा धन है मुरझाया सा बचपन है
ग़रीबी भुखमरी में क्यों जीबन बीतता जाये

ना करने का ही ज़ज्बा है ना बातों में ही दम दीखता
हर एक दल में सत्ता की जुगलबंदी नजर आये

कभी बाटाँ धर्म ने है ,कभी जाति में खोते हम
हमारे रह्नुमाओं का, असर हम पर नजर आये

ना खाने को ना पीने को ,ना दो पल चैन जीने को
ये कैसा तंत्र है यारों , ये जल्दी से गुजर जाये

ग़ज़ल (ये कैसा तंत्र)
मदन मोहन सक्सेना

167 Views
You may also like:
आँखों में आँसू क्यों
VINOD KUMAR CHAUHAN
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
*उठाओ प्लेट खुद खाओ , खिलाने कौन आएगा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सफर साथ में कटता।
Taj Mohammad
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️बेवफ़ा मोहब्बत✍️
'अशांत' शेखर
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
अक्सर
Rashmi Sanjay
मुकुट उतरेगा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
जब 'बुद्ध' कोई नहीं बनता।
Buddha Prakash
खुद को खुद में
Dr fauzia Naseem shad
करना धनवर्षा उस घर
gurudeenverma198
" शीशी कहो या बोतल "
Dr Meenu Poonia
निर्भया के न्याय पर 3 कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मोन
श्याम सिंह बिष्ट
एक और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
भोजपुरी भाषा
Er.Navaneet R Shandily
"योग करो"
Ajit Kumar "Karn"
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वफ़ा
Seema 'Tu hai na'
है आया पन्द्रह अगस्त है।।
पाण्डेय चिदानन्द
पूछ रहा है मन का दर्पण
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
तुम्हारी बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक सुबह की किरण
Deepak Baweja
मंज़िल
Ray's Gupta
मरने की इजाज़त
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हासिल करने की ललक होनी चाहिए
Anamika Singh
Loading...