Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल (ये कैसा तंत्र)

ग़ज़ल (ये कैसा तंत्र)

कैसी सोच अपनी है किधर हम जा रहें यारों
गर कोई देखना चाहें बतन मेरे वह आ जाये

तिजोरी में भरा धन है मुरझाया सा बचपन है
ग़रीबी भुखमरी में क्यों जीबन बीतता जाये

ना करने का ही ज़ज्बा है ना बातों में ही दम दीखता
हर एक दल में सत्ता की जुगलबंदी नजर आये

कभी बाटाँ धर्म ने है ,कभी जाति में खोते हम
हमारे रह्नुमाओं का, असर हम पर नजर आये

ना खाने को ना पीने को ,ना दो पल चैन जीने को
ये कैसा तंत्र है यारों , ये जल्दी से गुजर जाये

ग़ज़ल (ये कैसा तंत्र)
मदन मोहन सक्सेना

116 Views
You may also like:
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
उन्हें क्या पता।
Taj Mohammad
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
सुकूं का प्यासा है।
Taj Mohammad
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" पवित्र रिश्ता "
Dr Meenu Poonia
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H. Amin
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
💐 हे तात नमन है तुमको 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H. Amin
मोहब्बत में।
Taj Mohammad
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️✍️ओढ✍️✍️
"अशांत" शेखर
Loading...