Sep 29, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ..’.. याद रहते हैं..’

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
नज़ारे याद रहते हैं…..पुराने याद रहते हैं
कभी न भूल सकते पल सुहाने याद रहते हैं

सिलसिला निकल पड़ता है खर्चे का .. तीज त्योहारों
बचपने के कुल जमा …….चार आने याद रहते हैं

कहाँ याद करता है बात अच्छी… सौ दफा कह लो
कहें हों भूल से जो फ़क़त ….. ताने याद रहते हैं

नशे में डोल जाती मैक़दे की बोतलें साक़ी
मुझे बरबाद आंसू के खजाने याद रहते हैं

ज़ख्म दो चार मिलते हैं रिसा करते तमाम उम्र
चलो; अपने अक्सर किसी बहाने याद रहते हैं

ग़मों से है भरा सबका यहाँ जीवन.. समझ ”बंटी”
तुझे बस बेज़ुबाँ के.. कतलखाने याद रहते हैं
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रजिंदर सिंह छाबड़ा

1 Like · 116 Views
You may also like:
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam मन
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H.
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
वतन से यारी....
Dr. Alpa H.
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
*मन या तन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
उम्मीद से भरा
Dr.sima
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
Loading...