Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 29, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल..’..याद आई आज फिर..”

भूलना चाहूँ न भूलूँ याद आई आज फिर
चाँद निकला चांदनी भी शरमाई आज फिर

चमक जाती है तस्वीरे यार जेहन में मगर
याखुदा आँखे तेरी न मुस्कुराई आज फिर

सिल गए थे लब हमारे अब तलक हैं चुप हुए
उस घङी की वो फ़िज़ाएं खिलखिलाई आज फिर

आस वो या आमंत्रण वो समझ पाया न सनम
धड़कने घबरा गयी थी ; दी सुनाई आज फिर

ज़िंदगी से दूर हूँ जैसे समंदर रेत हैं
बांधने ”ब” गुरूर किसने है बिछाई आज फिर
================================
रजिंदर सिंह छाबड़ा

101 Views
You may also like:
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
कारस्तानी
Alok Saxena
नारियल
Buddha Prakash
हनुमंता
Dhirendra Panchal
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Neha Sharma
✍️✍️जरी ही...!✍️✍️
"अशांत" शेखर
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
बंदिशें भी थी।
Taj Mohammad
बहुत अच्छा लगता है ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
कुछ ना रहा
Nitu Sah
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...