Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (मेरे मालिक मेरे मौला )

ग़ज़ल (मेरे मालिक मेरे मौला )

मेरे मालिक मेरे मौला ये क्या दुनिया बनाई है
किसी के पास खाने को मगर बह खा नहीं पाये

तेरी दुनियां में कुछ बंदें, करते काम क्यों गंदें
किसी के पास कुछ भी ना, भूखे पेट सो जाये

जो सीधे सादे रहतें हैं मुश्किल में क्यों रहतें है
तेरी बातोँ को तू जाने, समझ अपनी ना कुछ आये

तुझे पाने की कोशिश में कहाँ कहाँ मैं नहीं घूमा
जब रोता बच्चा मुस्कराता है तू ही तू नजर आये

ना रिश्तों की महक दिखती ना बातोँ में ही दम दीखता
क्यों मायूसी ही मायूसी जिधर देखो नज़र आये

गुजारिश अपनी सबसे है कि जीयो और जीने दो
ये जीवन कुछ पलों का है पता कब मौत आ जाये

मेरे मालिक मेरे मौला ये क्या दुनिया बनाई है
किसी के पास खाने को मगर बह खा नहीं पाये

ग़ज़ल (मेरे मालिक मेरे मौला )
मदन मोहन सक्सेना

161 Views
You may also like:
जीवन का गीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिन्दगी की रफ़्तार
मनोज कर्ण
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
परिन्दे धुआं से डरते हैं
Shivkumar Bilagrami
वैलेंटाइन डे युवाओं का एक दिवालियापन
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
राज
Alok Saxena
"सेवानिवृत कर्मचारी या व्यक्ति"
Dr Meenu Poonia
*सुविधा - शुल्क (गीतिका)*
Ravi Prakash
बड़ी शिकायत रहती है।
Taj Mohammad
बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना
विनोद सिल्ला
Daily Writing Challenge : घर
'अशांत' शेखर
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
बावरी बातें
Rashmi Sanjay
पिता
Satpallm1978 Chauhan
विन्यास
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
सावन सजनी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
"कुछ तो गुन-गुना रही हो"☺️
Lohit Tamta
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
दो किनारे हैं दरिया के
VINOD KUMAR CHAUHAN
Waqt
ananya rai parashar
कबसे चौखट पे उनकी पड़े ही पड़े
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कभी गरीबी की गलियों से गुजरो
कवि दीपक बवेजा
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
Loading...