Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2020 · 1 min read

ग़ज़ल- मेरा हो कर भी वो पराया है…

मेरा हो कर भी वो पराया है।
बाहों में गैर की समाया है।।

दिल मे रहता जगह नही घर में।
हमने कैसा नसीब पाया है।।

ज़ख्म हमने छुपा लिए अक्सर।
दर्द दिल का उभर ही आया है।।

वो नही तो बजूद मेरा क्या।
जिस्म मेरा उसी का साया है।।

इस नशेमन को तोड़कर उसने ।
‘कल्प’ घर गैर का सजाया है।।

✍? अरविंद राजपूत ‘कल्प’

1 Like · 233 Views

Books from अरविन्द राजपूत 'कल्प'

You may also like:
Colours of heart,
Colours of heart,
DrChandan Medatwal
ए ड्रीम आफ लव
ए ड्रीम आफ लव
Shekhar Chandra Mitra
*धूप (कुंडलिया)*
*धूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भारत रत्न डॉ. बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर
भारत रत्न डॉ. बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर
KEVAL_MEGHWANSHI
२४२. पर्व अनोखा
२४२. पर्व अनोखा
MSW Sunil SainiCENA
“ अपने प्रशंसकों और अनुयायियों को सम्मान दें
“ अपने प्रशंसकों और अनुयायियों को सम्मान दें"
DrLakshman Jha Parimal
खुदसे ही लड़ रहे हैं।
खुदसे ही लड़ रहे हैं।
Taj Mohammad
✍️रंग बदलती जिंदगी
✍️रंग बदलती जिंदगी
'अशांत' शेखर
और बदल जाता है मूढ़ मेरा
और बदल जाता है मूढ़ मेरा
gurudeenverma198
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने...
pravin sharma
हम छि मिथिला के बासी,
हम छि मिथिला के बासी,
Ram Babu Mandal
अभी तक हमने
अभी तक हमने
*Author प्रणय प्रभात*
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
सत्य कुमार प्रेमी
है प्रशंसा पर जरूरी
है प्रशंसा पर जरूरी
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
भाये ना यह जिंदगी, चाँद देखे वगैर l
भाये ना यह जिंदगी, चाँद देखे वगैर l
अरविन्द व्यास
कवि और चितेरा
कवि और चितेरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
कारवां गुजर गया फ़िज़ाओं का,
कारवां गुजर गया फ़िज़ाओं का,
Satish Srijan
रात
रात
अंजनीत निज्जर
सखी री, होली के दिन नियर आईल, बलम नाहिं आईल।
सखी री, होली के दिन नियर आईल, बलम नाहिं आईल।
राकेश चौरसिया
गीत-3 (स्वामी विवेकानंद)
गीत-3 (स्वामी विवेकानंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
💐प्रेम कौतुक-398💐
💐प्रेम कौतुक-398💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Shyam Sundar Subramanian
Writing Challenge- मुस्कान (Smile)
Writing Challenge- मुस्कान (Smile)
Sahityapedia
बाल कहानी- बाल विवाह
बाल कहानी- बाल विवाह
SHAMA PARVEEN
खुद को खुद में
खुद को खुद में
Dr fauzia Naseem shad
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मेरी सफर शायरी
मेरी सफर शायरी
Ankit Halke jha
"खिलौने"
Dr Meenu Poonia
Loading...