Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल- मुद्दतों बाद हमे नींद सुहानी आयी

ग़ज़ल
काफ़िया- आनी
रदीफ़- आयी
2122 1122 1122 22

आपको देख हमे याद पुरानी आयी।
ठहरे दरिया में वही आज रवानी आयी।

याद में तेरी गुजारी हैं अकेले रातें
मुद्दतों बाद हमे नींद सुहानी आयी।

दर्द दिल आज सुनाएं तो सुनाएं कैसे
बात ग़म की न कभी हमको बतानी आयी।

बैठकर छाँव में उसका मैं निहारूँ रस्ता
वस्ल-ए-उम्मीद थी लेकिन न दिवानी आयी।

उनमें क़ुरवत का नशा दिल में भरा था, लेकिन
हसरतें दिल कि हमे फिर न सजानी आयी।

जिसके ख़ातिर कभी छोड़ा था जमाना हमने
आज उसको ही मुहब्बत न निभानी आयी।

जिंदगी चैन से कटती थी हमारी पहले
अब मुसीबत में है जबसे ज़वानी आयी।

अभिनव मिश्र अदम्य

1 Like · 166 Views
You may also like:
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
यथा प्रदीप्तं ज्वलनं.…..
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहानी *”ममता”* पार्ट-1 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
बरसात
मनोज कर्ण
#मजबूरी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तिरंगा मन में कैसे फहराओगे ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये चिड़िया
Anamika Singh
ईश्वर का वरदान है उर्जा
Anamika Singh
सुना है।
Taj Mohammad
जन्नत व जहन्नम देखी है।
Taj Mohammad
" विचित्र उत्सव "
Dr Meenu Poonia
*#सिरफिरा (#लघुकथा)*
Ravi Prakash
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
बेमकसद जिंदगी।
Taj Mohammad
*दशरथनंदन राम (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
हम समझते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Apology
Mahesh Ojha
तुम्हें देखा
Anamika Singh
पिता
कुमार अविनाश केसर
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुख पर तेज़ आँखों में ज्वाला
Rekha Drolia
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
poem
पंकज ललितपुर
पिता
Saraswati Bajpai
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
Loading...