Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (माँ का एक सा चेहरा)

ग़ज़ल (माँ का एक सा चेहरा)

बदलते बक्त में मुझको दिखे बदले हुए चेहरे
माँ का एक सा चेहरा , मेरे मन में पसर जाता

नहीं देखा खुदा को है ना ईश्वर से मिला मैं हुँ
मुझे माँ के ही चेहरे मेँ खुदा यारों नजर आता

मुश्किल से निकल आता, करता याद जब माँ को
माँ कितनी दूर हो फ़िर भी दुआओं में असर आता

उम्र गुजरी ,जहाँ देखा, लिया है स्वाद बहुतेरा
माँ के हाथ का खाना ही मेरे मन में उतर पाता

खुदा तो आ नहीं सकता ,हर एक के तो बचपन में
माँ की पूज ममता से अपना जीबन , ये संभर जाता

जो माँ की कद्र ना करते ,नहीं अहसास उनको है
क्या खोया है जीबन में, समय उनका ठहर जाता

ग़ज़ल (माँ का एक सा चेहरा)

मदन मोहन सक्सेना

1 Comment · 297 Views
You may also like:
आधा चांद भी
shabina. Naaz
मां शेरावाली
Seema 'Tu hai na'
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
ग़ज़ल
kamal purohit
गीता के स्वर (18) संन्यास व त्याग के तत्त्व
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क़ैद में 15 वर्षों तक पृथ्वीराज और चंदबरदाई जीवित थे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भीगे अरमाँ भीगी पलकें
VINOD KUMAR CHAUHAN
अपनापन
विजय कुमार अग्रवाल
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
*चिड़िया बोली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
■ लघुकथा / क्लोनिंग
*प्रणय प्रभात*
* नियम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
वक़्त ने वक़्त की
Dr fauzia Naseem shad
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
'अशांत' शेखर
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
फिर भी नदियां बहती है
जगदीश लववंशी
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
संघर्ष पथ
Aditya Prakash
पी रहा हूं मै नजरो से
Ram Krishan Rastogi
इंसाफ़ मिलेगा क्या?
Shekhar Chandra Mitra
जो इश्क मुकम्मल करते हैं
कवि दीपक बवेजा
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
यूं तो लगाए रहता है हर आदमी छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
" मेरी सजगता "
DrLakshman Jha Parimal
🌺🌻प्रेमस्य आनन्द: प्रतिक्षणं वर्धमानम्🌻🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कौन हो तुम….
Rekha Drolia
Loading...