Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (माँ का एक सा चेहरा)

ग़ज़ल (माँ का एक सा चेहरा)

बदलते बक्त में मुझको दिखे बदले हुए चेहरे
माँ का एक सा चेहरा , मेरे मन में पसर जाता

नहीं देखा खुदा को है ना ईश्वर से मिला मैं हुँ
मुझे माँ के ही चेहरे मेँ खुदा यारों नजर आता

मुश्किल से निकल आता, करता याद जब माँ को
माँ कितनी दूर हो फ़िर भी दुआओं में असर आता

उम्र गुजरी ,जहाँ देखा, लिया है स्वाद बहुतेरा
माँ के हाथ का खाना ही मेरे मन में उतर पाता

खुदा तो आ नहीं सकता ,हर एक के तो बचपन में
माँ की पूज ममता से अपना जीबन , ये संभर जाता

जो माँ की कद्र ना करते ,नहीं अहसास उनको है
क्या खोया है जीबन में, समय उनका ठहर जाता

ग़ज़ल (माँ का एक सा चेहरा)

मदन मोहन सक्सेना

1 Comment · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
रात हुई गहरी
रात हुई गहरी
Kavita Chouhan
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे  मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
DrLakshman Jha Parimal
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
*किस शहर में रहना पड़े (हिंदी गजल/गीतिका)*
*किस शहर में रहना पड़े (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
Rohit yadav
हर किसी के पास हो घर
हर किसी के पास हो घर
gurudeenverma198
कभी मज़बूत नहीं होते
कभी मज़बूत नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
प्यार की दिव्यता
प्यार की दिव्यता
Seema gupta,Alwar
धारण कर सत् कोयल के गुण
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
'विश्व जनसंख्या दिवस'
'विश्व जनसंख्या दिवस'
Godambari Negi
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
नव लेखिका
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
manjula chauhan
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
मिटाने लगें हैं लोग
मिटाने लगें हैं लोग
Mahendra Narayan
बड़े हो गए नहीं है शिशुपन,
बड़े हो गए नहीं है शिशुपन,
Satish Srijan
The moon descended into the lake.
The moon descended into the lake.
Manisha Manjari
हाथ पर हाथ रखा उसने
हाथ पर हाथ रखा उसने
Vishal babu (vishu)
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
विमला महरिया मौज
संस्कार जगाएँ
संस्कार जगाएँ
Anamika Singh
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
Chunnu Lal Gupta
जीवन का इक आइना, होते अपने कर्म
जीवन का इक आइना, होते अपने कर्म
Dr Archana Gupta
प्रात काल की शुद्ध हवा
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
तू क्या सोचता है
तू क्या सोचता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तू हकीकत से रू बरू होगा।
तू हकीकत से रू बरू होगा।
Taj Mohammad
बुंदेली_दोहा बिषय- गरी (#शनारियल)
बुंदेली_दोहा बिषय- गरी (#शनारियल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
Charu Mitra
Loading...