Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल (दुआ)

ग़ज़ल (दुआ)

हुआ इलाज भी मुश्किल ,नहीं मिलती दबा असली
दुआओं का असर होता दुआ से काम लेता हूँ

मुझे फुर्सत नहीं यारों कि माथा टेकुं दर दर पे
अगर कोई डगमगाता है उसे मैं थाम लेता हूँ

खुदा का नाम लेने में क्यों मुझसे देर हो जाती
खुदा का नाम से पहले ,मैं उनका नाम लेता हूँ

मुझे इच्छा नहीं यारों कि मेरे पास दौलत हो
सुकून हो चैन हो दिल को इसी से काम लेता हूँ

सब कुछ तो बिका करता मजबूरी के आलम में
मैं सांसों के जनाज़े को सुबह से शाम लेता हूँ

सांसे है तो जीवन है तभी है मूल्य मेहनत का
जितना हो जरुरी बस उसी का दाम लेता हूँ

ग़ज़ल (दुआ)
मदन मोहन सक्सेना

192 Views
You may also like:
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
हम आजाद पंछी
अनामिका सिंह
दिल मे कौन रहता है..?
N.ksahu0007@writer
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
चाहत कुर्सी की जागी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता हैं नाथ.....
Dr. Alpa H. Amin
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
कर्म ही पूजा है।
अनामिका सिंह
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
धरती की फरियाद
अनामिका सिंह
क्यों भावनाएं भड़काते हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भोजन
Vikas Sharma'Shivaaya'
बेपर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किसी की आरजू में।
Taj Mohammad
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सबसे बेहतर है।
Taj Mohammad
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
मालूम था।
Taj Mohammad
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
Loading...