Sep 29, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ‘.. तुम संसार पढ़ लोगे..’

***************************************
असुवन तरल कतार बद्ध लड़ी मोतियन गढ़ लोगे
खुदाया प्यार हो जाये तुम्हे तो…. हार पढ़ लोगे

कभी चाँद निकला तो चांदनी भी निकल जाती है
खुले छत पे टहलते देख तुम बीमार पढ़ लोगे

दिलों को देकर दिलों को लिया जाता. .सुनो यारों
भरे हैं खत लिखे मुहब्बत से …व्यापार पढ़ लोगे

ख़ुशी थोड़ी; गुस्सा थोड़ा ; जरा खाना ;ज़रा गाना
अगर जानो इत्ती सी बात ; तुम संसार पढ़ लोगे

नज़र के सामने आँखे ‘ लबों पे लब लरज़ते हों
ग़ज़ल क्या है ‘किताबे इश्क़’के असआर पढ़ लोगे
***************************************
रजिंदर सिंह छाबड़ा

100 Views
You may also like:
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
Little baby !
Buddha Prakash
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
**नसीब**
Dr. Alpa H.
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
परिंदों सा।
Taj Mohammad
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
Is It Possible
Manisha Manjari
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
"महेनत की रोटी"
Dr. Alpa H.
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
नमन!
Shriyansh Gupta
"बेटी के लिए उसके पिता क्या होते हैं सुनो"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...