Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 19, 2017 · 1 min read

ग़ज़ल /गीतिका

रक्षा के’ नाम पर सभी’ लोगों में जोश है
पर रहनुमा तमाम अभी तक खमोश हैं |

ये जिन्दगी तमाम रही मय-ओ-नोश है
वीरान मयकदा से’ दुखी मय फ़रोश है |

इतना प्रचार क्यों नयी’ कानून का अभी
क्या सच नहीं कि यंग नवा-ए-सरोश है |

वो पाँच साल तक नहीं कोई मिले जनाब
अब घूमते यहाँ वहाँ’ खानाबदोश है |

संसार के नियम सभी’ प्रेमी खिलाफ हैं
यां प्रेयसी तमाम बनी बुर्का’ पोश है |

‘काली’ नहीं लिया कभी’ जोखिम वो’ प्यार का
दागे फ़िराके’, वस्ल न जोश-ओ-ख़रोश है |
******
शब्दार्थ : मय-ओ-नोश=मदिरा पान की लिप्सा
मयकदा=मदिरालय, मय-फ़रोश=शराब बेचने वाला
यंग=कानून, नवा-ए-सरोश=शुभ सन्देश वाहक
दागे फ़िराके’= वियोग का कष्ट,
वस्ल = मिलन; जोश-ओ-ख़रोश = अत्यधिक
आनंद
कालीपद ‘प्रसाद’

237 Views
You may also like:
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Kanchan Khanna
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Saraswati Bajpai
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
अधुरा सपना
Anamika Singh
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...