Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 15, 2017 · 1 min read

ग़ज़ल /गीतिका

न जानूँ मैं बताऊँ कैसे’ मन में जो दबाई है
जबां पर यह नहीं आती मे’रे खूँ में समाई है |
नहीं था जीस्त में आराम शाही खानदानों ज्यो
निभाया मैं प्रतिश्रुति और तुमने भी निभाई है |
अभी तुझको कहूँ क्या, तू बता क्यों बे-वफाई की
तेरी झूठी मुहब्बत में, प्रतिष्ठा सब गँवाई है |
जनम भर हम रहेंगे साथ, वादा तो तुम्हारा था
अकेला छोड़ कर मुझको, बहुत तुमने रुलायी है |
दिखाती प्यार बेहद थी सदा पर छोड़ी’ क्यों अब हाथ
बिना बोले चले जाना, यही तेरी बुराई है |
सदा तुम खेलती थी, गेंद बेचारा मेरा दिल था
मुहब्बत के वो’ खेलों में वफ़ा तुमने भुलाई है |
गज़ब नाराजगी तेरी, उफनती वो पयस जैसा
हो’ जाती शांत जब, लगती है’ तू मीठी मलाई है |

कालीपद ‘प्रसाद’

152 Views
You may also like:
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
बोझ
आकांक्षा राय
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
Loading...