Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 11, 2017 · 1 min read

ग़ज़ल /गीतिका

न जानूँ मैं बताऊँ कैसे’ मन में जो दबाई है
जबां पर यह नहीं आती मे’रे खूँ में समाई है |
नहीं था जीस्त में आराम शाही खानदानों ज्यो
निभाया मैं प्रतिश्रुति और तुमने भी निभाई है |
अभी तुझको कहूँ क्या, तू बता क्यों बे-वफाई की
तेरी झूठी मुहब्बत में, प्रतिष्ठा सब जलाई है |
जनम भर हम रहेंगे साथ, वादा तो तुम्हारा था
अकेला छोड़ कर मुझको, बहुत तुमने रुलायी है |
दिखाती प्यार बेहद थी सदा पर छोड़ी’ क्यों अब हाथ
बिना बोले चले जाना, यही तेरी बुराई है |
सदा तुम खेलती थी, गेंद बेचारा मेरा दिल था
मुहब्बत के वो’ खेलों में वफ़ा तुमने भुलाई है |
गज़ब नाराजगी तेरी, उफनती वो पयस जैसा
हो’ जाती शांत जब, लगती है’ तू मीठी मलाई है |

कालीपद ‘प्रसाद’

165 Views
You may also like:
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आदर्श पिता
Sahil
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Dr.Priya Soni Khare
पिता का दर्द
Nitu Sah
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
Loading...