Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल- जबसे तेरा ये प्यार पाया है

ग़ज़ल- जबसे तेरा ये प्यार पाया है
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
जबसे तेरा ये प्यार पाया है
दिल ने चैनों करार पाया है

जाने कैसा सूरूर है छाया
जबसे तेरा दीदार पाया है

जिन्दगी जैसे खिल गई मेरी
जबसे बाहोँ का हार पाया है

जब भी रहता वो दूर नज़रोँ से
मैंने खुद को बीमार पाया है

पहला कहते हैं प्यार हम जिसको
बोलो कोई बिसार पाया है

जो था सपना वो आजकल देखो
मैंने वो बार बार पाया है

दिल में जबसे “आकाश” रहता वो
मैंने ग़म भी हजार पाया है

– आकाश महेशपुरी

342 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from आकाश महेशपुरी
View all
You may also like:
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*बेचारे  वरिष्ठ नागरिक  (हास्य व्यंग्य)*
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
मेरे रहबर मेरे मालिक
मेरे रहबर मेरे मालिक
gurudeenverma198
O brave soldiers.
O brave soldiers.
Taj Mohammad
'समय की सीख'
'समय की सीख'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️ देखते रह गये..!✍️
✍️ देखते रह गये..!✍️
'अशांत' शेखर
कैसे मुझे गवारा हो
कैसे मुझे गवारा हो
Seema 'Tu hai na'
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
जीवन आनंद
जीवन आनंद
Shyam Sundar Subramanian
वर्तमान
वर्तमान
Saraswati Bajpai
" विचित्र उत्सव "
Dr Meenu Poonia
आभरण
आभरण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*आदत बदल डालो*
*आदत बदल डालो*
Dushyant Kumar
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम पंख बन कर लग जाओ
तुम पंख बन कर लग जाओ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अतिथि की भांति
अतिथि की भांति
Dr fauzia Naseem shad
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
मुहब्बत का मसीहा:खलील जिब्रान
मुहब्बत का मसीहा:खलील जिब्रान
Shekhar Chandra Mitra
The Moon!
The Moon!
Buddha Prakash
अब नहीं दिल धड़कता है उस तरह से
अब नहीं दिल धड़कता है उस तरह से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुशी के पल
खुशी के पल
RAKESH RAKESH
कलम
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
'खिदमत'
'खिदमत'
Godambari Negi
आख़री तकिया कलाम
आख़री तकिया कलाम
Rohit yadav
2554.पूर्णिका
2554.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रंगे अमन
रंगे अमन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
घनाक्षरी छंद
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
Loading...