Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (खेल देखिये)

ग़ज़ल (खेल देखिये)

साम्प्रदायिक कहकर जिससे दूर दूर रहते थे
राजनीती में कोई अछूत नहीं ,ये खेल देखिये

दूध मंहगा प्याज मंहगा और जीना मंहगा हो गया
छोड़ दो गाड़ी से जाना ,मँहगा अब तेल देखिये

कल तलक थे साथ जिसके, आज उससे दूर हैं
सेक्युलर कम्युनल का ऐसा घालमेल देखिये

हो गए कैसे चलन अब आजकल गुरूओं के यार
मिलते नहीं बह आश्रम में ,अब जेल देखिये

बात करते हैं सभी क्यों आज कल जनता की लोग
देखना है गर उन्हें ,साधारण दर्जें की रेल देखिये

ग़ज़ल (खेल देखिये)
मदन मोहन सक्सेना

149 Views
You may also like:
एक लम्हा भी नहीं
Dr fauzia Naseem shad
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
योग करो।
विजय कुमार 'विजय'
*कुर्सी* 【कुंडलिया】
Ravi Prakash
पेड़ की अंतिम चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटी से मुस्कान है...
जगदीश लववंशी
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बेताब दिल
VINOD KUMAR CHAUHAN
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
परिणय
मनोज कर्ण
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
जीवन मेला
DESH RAJ
ईद के बहाने ही सही।
Taj Mohammad
ए'तिराफ़-ए-'अहद-ए-वफ़ा
Shyam Sundar Subramanian
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" बुलबुला "
Dr Meenu Poonia
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों...
Manisha Manjari
मेरे सपनों का भारत
Shekhar Chandra Mitra
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
मांगू तुमसे पूजा में, यही छठ मैया
gurudeenverma198
प्रेम चिन्ह
sangeeta beniwal
जीवन है यदि प्रेम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️हिटलर अभी जिंदा है...✍️
'अशांत' शेखर
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
केंचुआ
Buddha Prakash
Loading...