Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ( खुद से अनजान)

ग़ज़ल ( खुद से अनजान)

जानकर अपना तुम्हे हम हो गए अनजान खुद से
दर्द है क्यों अब तलक अपना हमें माना नहीं नहीं है

अब सुबह से शाम तक बस नाम तेरा है लबों पर
साथ हो अपना तुम्हारा और कुछ पाना नहीं है

गर कहोगी रात को दिन ,दिन लिखा बोला करेंगे
गीत जो तुमको न भाए बह हमें गाना नहीं है

गर खुदा भी रूठ जाये तो हमें मंजूर होगा
पास बह अपने बुलाये तो हमें जाना नहीं है

प्यार में गर मौत दे दें तो हमें शिकबा नहीं है
प्यार में बह प्यार से कुछ भी कहें ताना नहीं है

ग़ज़ल ( खुद से अनजान)
मदन मोहन सक्सेना

225 Views
You may also like:
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
चंद सांसे अभी बाकी है
Sushil chauhan
अगर मेरे साथ यह नहीं किया होता तूने
gurudeenverma198
देख कबीरा रोया
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
पैसा पैसा कैसा पैसा
विजय कुमार अग्रवाल
हमारी ग़ज़लों ने न जाने कितनी मेहफ़िले सजाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
कहानियां
Alok Saxena
✍️तन्हा ही जाना है✍️
'अशांत' शेखर
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मिट्टी की सुगंध
Seema 'Tu hai na'
प्यार करने की कभी कोई उमर नही होती
Ram Krishan Rastogi
" मेरा वतन "
Dr Meenu Poonia
*हृदय से पत्नियॉं लिखती हैं पति के नाम जब पाती...
Ravi Prakash
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
ज़माना कहता है हर बात ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
हम रिश्तों में टूटे दरख़्त के पत्ते हो गए हैं।
Taj Mohammad
देख सिसकता भोला बचपन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
धोखा
Anamika Singh
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भोजपुरिया दोहा दना दन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
इतना मत चाहो
सूर्यकांत द्विवेदी
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तरुवर की शाखाएंँ
Buddha Prakash
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...