Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (किसी के हाल पर यारों,कौन कब आसूँ बहाता है)

दिल के पास है लेकिन निगाहों से जो ओझल है
ख्बाबों में अक्सर वह हमारे पास आती है

अपनों संग समय गुजरे इससे बेहतर क्या होगा
कोई तन्हा रहना नहीं चाहें मजबूरी बनाती है

किसी के हाल पर यारों,कौन कब आसूँ बहाता है
बिना मेहनत के मंजिल कब किसके हाथ आती है

क्यों हर कोई परेशां है बगल बाले की किस्मत से
दशा कैसी भी अपनी हो किसको रास आती है

दिल की बात दिल में ही दफ़न कर लो तो अच्छा है
पत्थर दिल ज़माने में कहीं ये बात भाती है

भरोसा खुद पर करके जो समय की नब्ज़ को जानें
“मदन ” हताशा और नाकामी उनसे दूर जाती है

ग़ज़ल (किसी के हाल पर यारों,कौन कब आसूँ बहाता है)
मदन मोहन सक्सेना

330 Views
You may also like:
अब वो किसी और से इश्क़ लड़ाती हैं
Writer_ermkumar
*देह-नौका पर भार नहीं है (गीत )*
Ravi Prakash
हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं
कवि दीपक बवेजा
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
कौन हिसाब रखे
Kaur Surinder
राष्ट्रकवि
Shekhar Chandra Mitra
हालात
Surabhi bharati
रावण के मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
मुझे मेरे गाँव पहुंचा देना
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ज़मज़म देर तक नहीं रहता
Dr. Sunita Singh
तू है ना'।।
Seema 'Tu hai na'
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
दर्दे दिल
Anamika Singh
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
परिन्दे धुआं से डरते हैं
Shivkumar Bilagrami
*अदब *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
कहाँवा से तु अइलू तुलसी
Gouri tiwari
कुछ चेहरे खुशियों में भी नम होते हैं।
Taj Mohammad
इंद्रधनुष
Sushil chauhan
✍️हौसले भी कहाँ कम मिलते है
'अशांत' शेखर
गलती का भी हद होता है ।
Nishant prakhar
अब तो सूर्योदय है।
Varun Singh Gautam
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दो लफ़्ज़ मोहब्बत के
Dr fauzia Naseem shad
पिता
कुमार अविनाश केसर
" सब्र बचपन का"
Dr Meenu Poonia
Loading...