Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल (किसी के हाल पर यारों,कौन कब आसूँ बहाता है)

दिल के पास है लेकिन निगाहों से जो ओझल है
ख्बाबों में अक्सर वह हमारे पास आती है

अपनों संग समय गुजरे इससे बेहतर क्या होगा
कोई तन्हा रहना नहीं चाहें मजबूरी बनाती है

किसी के हाल पर यारों,कौन कब आसूँ बहाता है
बिना मेहनत के मंजिल कब किसके हाथ आती है

क्यों हर कोई परेशां है बगल बाले की किस्मत से
दशा कैसी भी अपनी हो किसको रास आती है

दिल की बात दिल में ही दफ़न कर लो तो अच्छा है
पत्थर दिल ज़माने में कहीं ये बात भाती है

भरोसा खुद पर करके जो समय की नब्ज़ को जानें
“मदन ” हताशा और नाकामी उनसे दूर जाती है

ग़ज़ल (किसी के हाल पर यारों,कौन कब आसूँ बहाता है)
मदन मोहन सक्सेना

178 Views
You may also like:
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Ram Krishan Rastogi
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
✍️दो और दो पाँच✍️
"अशांत" शेखर
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
मुक्तक
Ranjeet Kumar
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
पिता
Satpallm1978 Chauhan
चौपाई छंद में सौलह मात्राओं का सही गठन
Subhash Singhai
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
संविधान की गरिमा
Buddha Prakash
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
गीत
शेख़ जाफ़र खान
अहसासों से भर जाता हूं।
Taj Mohammad
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
सीख
Pakhi Jain
Baby cries.
Taj Mohammad
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
Loading...