Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (ऐतवार)

ग़ज़ल (ऐतवार)

बोलेंगे जो भी हमसे बह ,हम ऐतवार कर लेगें
जो कुछ भी उनको प्यारा है ,हम उनसे प्यार कर लेगें

बह मेरे पास आयेंगे ये सुनकर के ही सपनो में
क़यामत से क़यामत तक हम इंतजार कर लेगें

मेरे जो भी सपने है और सपनों में जो सूरत है
उसे दिल में हम सज़ा करके नजरें चार कर लेगें

जीवन भर की सब खुशियाँ ,उनके बिन अधूरी है
अर्पण आज उनको हम जीबन हजार कर देगें

हमको प्यार है उनसे और करते प्यार बह हमको
गर अपना प्यार सच्चा है तो मंजिल पर कर लेगें

ग़ज़ल (ऐतवार)
मदन मोहन सक्सेना

305 Views
You may also like:
मैं तेरी आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राब्ते सबसे अपने
Dr fauzia Naseem shad
'नर्क के द्वार' (कृपाण घनाक्षरी)
Godambari Negi
वक्त
Annu Gurjar
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
इन्तजार किया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
“ गोलू क जन्म दिन “
DrLakshman Jha Parimal
★तक़दीर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
समय का इम्तिहान
Saraswati Bajpai
पुलिस और वकील( मुक्तक)
Ravi Prakash
अश्रुपात्र A glass of years भाग 6 और 7
Dr. Meenakshi Sharma
इश्क
goutam shaw
मेरा दिल हमेशा।
Taj Mohammad
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
लक्ष्मी सिंह
#नाव
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"उज्जैन नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य"
Pravesh Shinde
✍️वो सब अपने थे...
'अशांत' शेखर
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
इश्क का दरिया
Anamika Singh
धर्मपरिवर्तन क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
अब और कितना झूठ बोले तानाण तेरे किरदार में
Manoj Tanan
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
Loading...