Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (इश्क क्या है ,आज इसकी लग गयी हमको खबर )

हर सुबह रंगीन अपनी शाम हर मदहोश है
वक़्त की रंगीनियों का चल रहा है सिलसिला

चार पल की जिंदगी में ,मिल गयी सदियों की दौलत
जब मिल गयी नजरें हमारी ,दिल से दिल अपना मिला

नाज अपनी जिंदगी पर ,क्यों न हो हमको भला
कई मुद्द्दतों के बाद फिर अरमानों का पत्ता हिला

इश्क क्या है ,आज इसकी लग गयी हमको खबर
रफ्ता रफ्ता ढह गया, तन्हाई का अपना किला

वक़्त भी कुछ इस तरह से आज अपने साथ है
चाँद सूरज फूल में बस यार का चेहरा मिला

दर्द मिलने पर शिकायत ,क्यों भला करते मदन
दर्द को देखा जो दिल में मुस्कराते ही मिला

ग़ज़ल (इश्क क्या है ,आज इसकी लग गयी हमको खबर )

मदन मोहन सक्सेना

186 Views
You may also like:
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
निज सुरक्षित भावी
AMRESH KUMAR VERMA
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क़ से इंकलाब तक
Shekhar Chandra Mitra
*निष्कामी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
^^मृत्यु: अवश्यम्भावी^^
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
" शीशी कहो या बोतल "
Dr Meenu Poonia
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
یہ سوکھے ہونٹ سمندر کی مہربانی
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ उजले ख्वाब देखे है।
Taj Mohammad
वो खुश हैं अपने हाल में...!!
Ravi Malviya
जिन्दगी की रफ़्तार
मनोज कर्ण
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
चार्वाक महाभारत का
AJAY AMITABH SUMAN
भूल गयी वह चिट्ठी
Buddha Prakash
रमेश छंद "नन्ही गौरैया"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
आओगे मेरे द्वार कभी
Kavita Chouhan
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
वात्सल्य का शजर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️कुछ रक़ीब थे...
'अशांत' शेखर
लश्क़र देखो
Dr. Sunita Singh
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
💐खामोश जुबां 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख्वाहिश
अमरेश मिश्र 'सरल'
पिता
Ray's Gupta
Loading...