Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ग़ज़ल।दिवाने को नही मालुम।

ग़ज़ल।निगाहें ढूढ़ती बेबस दिवाने को नही मालुम ।

वफ़ा में जख़्म पाया हूँ ज़बाने को नही मालुम ।
निगाहें ढूढ़ती बेबस दिवाने को नही मालुम ।।

नही होती मुहब्बत में यहा ज़ख्मो की भरपाई ।
मिली है ज़िंदगी किस पर लुटाने को नही मालुम ।

यक़ीनन नफ़रतों में भी उसे साज़िश लगी होगी ।
ग़मो में काम आयी हो भुलाने को नही मालूम ।।

हुआ जो दर्द तो आँखे छिपाकर क्या करें आंसू ।
मिला हो एक पहलू भी छिपाने को नही मालुम ।

जवां वो ,थी हसीं वो थी ,बसी वो थी निगाहो में ।
पर आयी हो कभी तन्हा मिटाने को नही मालुम ।।

मुझे तकलीफ़ तो न थी मग़र हालात से बेबस ।
चला आया तपिस का गम बुझाने को नही मालुम ।

मुझे मालूम था ‘रकमिश’ मुहब्बत भी बिकाऊ है ।
मग़र दर्दो के अफ़साने भुलाने को नही मालूम ।।

© राम केश मिश्र’रकमिश’

170 Views
You may also like:
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
बाबू जी
Anoop Sonsi
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
पिता का दर्द
Nitu Sah
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...