Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल।क्यों ज़मीं से आस्मां मिलता नही ।

ग़ज़ल।क्यों ज़मीं से आस्मां मिलता नही ।

दूरियों का जख़्म अब भरता नही ।
क्यों ज़मीं को आसमां मिलता नही ।।

ढल रही है उम्र बेसक बेखबर ।
चाह का सूरज कभी ढलता नही ।।

प्यार है ये प्यार की दुश्वारियां ।
प्यार में ईमान तो मरता नही ।।

हो रहा रुसवा तुम्हारे प्यार में ।
ख़्वाब अक़्सर रात में बुनता नही ।।

प्यार का मरहम खरीदा तुम करो ।
रंजिसों से घाव तो भरता नही ।।

बन रही है आँसुओं की झील इक ।
अश्क़ आँखों में कभी जलता नही ।।

गर्दिसों से दूर साहिल के लिए ।
आदमी खुदगर्ज़ है चलता नही ।।

एक पौधा तू लगा विश्वास का ।।
बेखुदी में प्यार तो पलता नही ।।

वक्त की है बंदिसे ‘रकमिश’ मग़र ।
प्यार का उठता धुँआ बुझता नही ।।

राम केश मिश्र’रकमिश’

1 Comment · 140 Views
You may also like:
इतना मत लिखा करो
सूर्यकांत द्विवेदी
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
डिजिटल इंडिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" डीमक रूपी सरकारी अफसर "
Dr Meenu Poonia
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
Hero of your parents 🦸
ASHISH KUMAR SINGH
जज़्बा
Shyam Sundar Subramanian
रामपुर में दंत चिकित्सा की आधी सदी के पर्याय डॉ....
Ravi Prakash
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
Accept the mistake
Buddha Prakash
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह और कोहिनूर हीरा"
Pravesh Shinde
✍️"एक वोट एक मूल्य"✍️
'अशांत' शेखर
मय्यत पर मेरी।
Taj Mohammad
बाल कहानी- प्यारे चाचा
SHAMA PARVEEN
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
वतन के रखवाले
Shekhar Chandra Mitra
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
प्यार ~ व्यापार
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
इंसानी दिमाग
विजय कुमार अग्रवाल
*आशिक़*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी का राज
Anamika Singh
साथ तुम्हारा
मोहन
आया आषाढ़
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...