Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 2, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल/गीतिका

ना करो ऐसे कुछ, रस्म जैसे निभाती हो
आरसी भी तरस जाता, तब मुहँ दिखाती हो |

छोड़कर तब गयी अब हमें, क्यों रुलाती हो
याद के झरने में आब जू, तुम बहाती हो |

रात दिन जब लगी आँख, बन ख़्वाब आती हो
अलविदा कह दिया फिर, अभी क्यों सताती हो ?

जिंदगी जीये हैं इस जहाँ मौज मस्ती से
गलतियाँ भी किये याद क्यों अब दिलाती हो |

प्रज्ञ हो जानती हो कहाँ दुःखती रग है
शोक आकुल हुआ जब, मुझे तुम हँसाती हो |

कहती थी मुँह कभी फेर लूँ तो तभी कहना
दु:खी हूँ या खफ़ा, तुम नहीं अब मनाती हो |

वक्सिसे जो मिली प्रेम के तेरे चौखट पर
भूलना चाहता हूँ, लगे दिल जलाती हो

कालीपद ‘प्रसाद’

440 Views
You may also like:
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
पिता
Manisha Manjari
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
देश के नौजवानों
Anamika Singh
अधुरा सपना
Anamika Singh
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Satpallm1978 Chauhan
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कर्म का मर्म
Pooja Singh
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
मेरी लेखनी
Anamika Singh
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
Loading...