Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल/गीतिका

थी जान जब तक वो लडे फिर जाँ लुटा कर चल दिये
इस देश की खातिर वे खुद को भी मिटा कर चल दिये|

लड़ते गए सब वीरता से टैंकरों के सामने
झुकने दिया ना देश को खुद शिर कटा कर चले दिए |

परिवार को कर देश पर कुर्बान खुद लड़ने गए
वो वीर थे जो देश की इज्जत बचा कर चल दिये |

एकेक ने मारा कई को फिर शहीदों से मिले
अंतिम घडी तक फर्ज अपना सब निभा कर चल दिए |

शत शत नमन उन वीरों को जो मर मिटे हम वास्ते
खुद ही कटा कर शिर दिए फिर मुस्कुराकर चल दिए |

कालीपद ‘प्रसाद’

1 Like · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from kalipad prasad
View all
You may also like:
মা কালীর কবিতা
মা কালীর কবিতা
Arghyadeep Chakraborty
पावस की रात
पावस की रात
लक्ष्मी सिंह
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
मैं तेरी आशिकी
मैं तेरी आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विश्व कप-2023 फाइनल सुर्खियां
विश्व कप-2023 फाइनल सुर्खियां
दुष्यन्त 'बाबा'
बनावटी दुनिया मोबाईल की
बनावटी दुनिया मोबाईल की"
Dr Meenu Poonia
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
Neelam Sharma
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
# मेरे जवान ......
# मेरे जवान ......
Chinta netam " मन "
बम भोले।
बम भोले।
Anil Mishra Prahari
पैसा पैसा कैसा पैसा
पैसा पैसा कैसा पैसा
विजय कुमार अग्रवाल
#आलेख-
#आलेख-
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ता
रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
" भुला दिया उस तस्वीर को "
Aarti sirsat
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
Sushil chauhan
💐Prodigy Love-37💐
💐Prodigy Love-37💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
मेरा यार आसमां के चांद की तरह है,
Dushyant Kumar Patel
🌷साथ देते है कौन यहाँ 🌷
🌷साथ देते है कौन यहाँ 🌷
Dr.Khedu Bharti
नव बर्ष 2023 काआगाज
नव बर्ष 2023 काआगाज
Dr. Girish Chandra Agarwal
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
सुबह की चाय है इश्क,
सुबह की चाय है इश्क,
Aniruddh Pandey
तू कहता क्यों नहीं
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मिस्टर जी आजाद
मिस्टर जी आजाद
gurudeenverma198
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
** सपने सजाना सीख ले **
** सपने सजाना सीख ले **
surenderpal vaidya
नौजवान सुभाष
नौजवान सुभाष
Aman Kumar Holy
*अर्पण प्रभु को हो गई, मीरा भक्ति प्रधान ( कुंडलिया )*
*अर्पण प्रभु को हो गई, मीरा भक्ति प्रधान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
एक मंत्र के जाप से इन्द्र का सिंहासन हिल जाता है
एक मंत्र के जाप से इन्द्र का सिंहासन हिल जाता है
राकेश कुमार राठौर
Loading...